​ ​ मध्यप्रदेश में परेशान प्याज के किसान, जेब से भरना पड़ रहा भाड़ा
Tuesday, June 25, 2019 | 6:23:40 PM

RTI NEWS » Social Interview » Interviews


मध्यप्रदेश में परेशान प्याज के किसान, जेब से भरना पड़ रहा भाड़ा

Thursday, December 20, 2018 18:31:11 PM , Viewed: 4832
  • मंदसौरः मध्यप्रदेश के मंदसौर में प्याज के किसान परेशान है प्याज के दाम इतने गिर चुके हैं किसानों को मंडी तक अपनी फसल लाने भाड़ा भी अपनी जेब से चुकाना पड़ रहा है ऐसे में कई किसान नुकसान सहन कर रहे हैं वहीं कई किसान अपनी फसल को मंडी में छोड़कर जाने को मजबूर हो रहे है ,,
         
    किसानों का है कहना है कि उन्हें नई सरकार के गठन से उम्मीदें जगी थी उन्हें उम्मीद थी कि कमलनाथ सरकार के आने के बाद फसलों के सही दाम उन्हें मिल पाएंगे लेकिन अब तक निराशा ही हाथ लगी है प्याज के दाम लगातार गिरते ही जा रहे हैं,, ऐसे में किसान या मांग कर रहे हैं कि उन्हें सिर्फ उनकी फसलों के सही दाम किसी भी तरह सरकार दिलवा दे ताकि उन्हें नुकसान सहन ना करना पड़े

    किसानों के अनुसार मंडी तक प्याज को लाने का भाड़ा ₹50 प्रति बैग लग रहा है जबकि मंडी में उनकी एक बैग फसल से उन्हें महज ₹35 ही मिल पा रहे हैं,,

    उधर मंडी प्रबंधन के अनुसार मंदसौर कृषि उपज मंडी में प्रतिदिन 8 से 10000 क्विंटल प्याज की आवक हो रही है प्रबंधन का दावा है कि मंडी में 50 पैसे से लेकर ₹9 प्रति क्विंटल तक प्याज की नीलामी हो रही है और मंडी के मॉडल दाम साडे ₹6 प्रति किलो है हालांकिइन दावों कर उलट ज़ी मीडिया की टीम ने जब मंडी में किसानों से नीलामी की पर्चियां देखी तो अधिकतर किसानों की फसल 50 पैसे किलो में बिकी हुई मिली कुछ किसानों को दो से ₹3 प्रति किलो तक के दाम मिले हैं लेकिन वह भी छोटे ढेरों के

Reporter : Arunkumar,
RTI NEWS


Disclaimer : हमारी वेबसाइट और हमारे फेसबुक पेज पर प्रदर्शित होने वाली तस्वीरों और सूचनाएं के लिए किसी प्रकार का दावा नहीं करते। इन तस्वीरों को हमने अलग-अलग स्रोतों से लिया जाता है, जिन पर इनके मालिकों का अपना कॉपीराइट है। यदि आपको लगता है कि हमारे द्वारा इस्तेमाल की गई कोई भी तस्वीर आपके कॉपीराइट का उल्लंघन करती है तो आप यहां अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते हैं- rtinews.net@gmail.com

हमें आपकी प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा है। हम उस पर अवश्य कार्यवाही करेंगे।


दूसरे अपडेट पाने के लिए RTINEWS.NET के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।