​ ​ नक्सलवाद के बीच बस्तर में 'प्रेम की देवी' का बोलबाला..!
Tuesday, August 20, 2019 | 8:36:15 PM

RTI NEWS » Social Interview » Interviews


नक्सलवाद के बीच बस्तर में 'प्रेम की देवी' का बोलबाला..!

Sunday, February 17, 2019 11:10:43 AM , Viewed: 4044
  • आप ने बस्तर में अनेक देवी देवताओ के बारे में  सुना होगा , लेकिन वेलेंटाइन डे के ख़ास मौके पर हम आपको दंतेवाड़ा जिले की एक ऐसी प्रसिद्ध देवी के दर्शन कराने जा रहे है जो प्रेम की देवी के नाम से क्षेत्र में विख्यात है। मान्यता है कि यह देवी सच्चा प्रेम करने वाले जोड़ों को मिलाती है। इस मंदिर की ऐसी मान्यता है की यदि प्रेमी अपनी प्रेमिका को पाने के लिए सच्चे मन से माता से मन्नत मांगता है और अपने स्तर का चढ़ाव करता हैं। तो माता उनकी मुराद पूरी कर जन्म जन्मांतर  तक जोड़ी बना देती हैं। हर साल वैलेंटाइनडे के अवसर पर यहाँ प्रेमी युवक युवतियों की भीड़ दिखाई देती हैं।

    हम बात कर रहे है दंतेवाड़ा जिला मुख्यालय से महज 25 से 30 किलोमीटर दूर स्थित छिंदनार गाँव की। इस गाँव के घने जंगल की एकटेकरी में 11वी शताब्दी के समय से  मुकडी मावली माता का मंदिर स्थितहै।  जिन्हें  पूरे क्षेत्र में प्रेम की देवी के रूप में पूजा जाता है।  वही प्रदेश का यह इकलौता ऐसा मंदिर है जहा मन्नत मांगने से प्रेमी युगलजन्मजन्मांतर तक एक दूजे के हो जाते है। वैसे तो सामान्य दिनों में भीलोगो का आना जाना इस मंदिर में लगा रहता है लेकिन प्रतिवर्ष वैलेंटाइनडे के खास अवसर पर यहाँ प्रेमी प्रेमिकाओ की संख्या अधिकदिखाई पड़ती है।

    मान्यता है कि इस मंदिर में माता के सामने सिर्फ प्रेमीयुवक ही आ सकता है। महिलाओ का प्रवेश मंदिर में वर्जित माना गया है।वही प्रेमी युवक ही माता के दर्शन कर , अपने प्यार को पाने के लिएमन्नते मांगते है। इसके लिए प्रेमी अपने स्तर का चढ़ावा भी करता है। प्रेमिका को मंदिर में जाने की इजाजत नही होती है , इस लिए यदिप्रेमिका अपने प्रेमी के साथ यहां आती भी है तो वो मंदिर से कुछ दूरी परही खड़ी रहती है। यह भी मान्यता है की  प्रेमी अपने प्यार को पाने केलिए  प्रेमिका की फोटो, बाल, कपड़े या फिर  प्रेमिका की किसी भी वस्तुको लाकर चढ़ाता है।  और  माता से अपने प्रेम को पाने के  लिए मन्नतेमांगता है।

    वही प्रेमी द्वारा दी गयी वस्तुओं को एक पत्थर के नीचे पूजाकर के  पुजारी द्वारा दबा कर रखा जाता है। ग्रामीणों की माने तो अबतक कई ऐसे प्रेमी युगल इस मंदिर पर आए  है जिन्होंने माता से जीवनभर एक दूजे के होने की मन्नते मांगी है। वही माता के आशीर्वाद से कईजोड़े अब वैवाहिक जीवन मे बंध गए है।

    इसके अलावा जिन विवाहित जोड़ो का गृहस्थी जीवन सकुशलनही चल रहा होता है ,ओर उनके जीवन मे कई प्रकार की बाधाएं आते हैतो वे भी माता के दरबार में मत्था टेकने आते है। वही  बस्तर जिले केलोहंडीगुड़ा ब्लॉक से पहुचे महेश ठाकुर ने बताया कि  उन्होंने छिंदनार मेंस्थित मुकडीमावली माता के बारे में काफी कुछ सुना था , इस लिए अपनीजीवनसंगिनी पत्नी व बच्चो की खुशहाली व समृद्धि के लिए माता काआशीर्वाद लेने पहुचे है। सिर्फ जिले के ही नही बल्कि जिले के बाहर के भीबहुत से प्रेमी युगल माता का आशीर्वाद लेने प्रति वर्ष चाहे सामान्य दिनहो या फिर वेलेंटाइन डे जैसा कोई खास दिन हो यहाँ पहुचते है।
     

Reporter : Arunkumar,
RTI NEWS


Disclaimer : हमारी वेबसाइट और हमारे फेसबुक पेज पर प्रदर्शित होने वाली तस्वीरों और सूचनाएं के लिए किसी प्रकार का दावा नहीं करते। इन तस्वीरों को हमने अलग-अलग स्रोतों से लिया जाता है, जिन पर इनके मालिकों का अपना कॉपीराइट है। यदि आपको लगता है कि हमारे द्वारा इस्तेमाल की गई कोई भी तस्वीर आपके कॉपीराइट का उल्लंघन करती है तो आप यहां अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते हैं- rtinews.net@gmail.com

हमें आपकी प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा है। हम उस पर अवश्य कार्यवाही करेंगे।


दूसरे अपडेट पाने के लिए RTINEWS.NET के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।